Jab Main Chota Bachha Tha Badi Sararat Karta Tha

Posted on Posted in My Childhood
जब मै छोटा बचा था, बड़ी सरारत करता था
 रोज स्कूल में जाता था पर काम कभी नही करता था !


मास्टर जी मन्ने पिटेंगे , मै इसे बात से डरता था..
 के करूँ मजबूरी थी मन्ने फेर भी जाना पड़ता था !

एक दिन मै स्कूल तै लुकग्या मेरे बापू नै बेरा पटग्या ..
 जब बापू का देखया जूता एक मिंट मै चेरा झड़गया !

फेर बापू नै बाँधी टाँग उल्टा दिया पेड़ पै टाँग..
 बचावन आला कोई नही सारे खड़े देखै थे सांग !

फेर मनै अपनी ग़लती मानी पढ़न लिखन की मन में ठानी..
 थाकै बस्ता स्कूल चल्या मै भूल गया था कापी ठानी !

फेर मनै मेहनत पूरी करी स्कॉलर्शिप से अपनी जेब भरी.
 मेरी मेहनत रंग ले आई ओर मै हो गया चिंता टाई फरी !

जब था छ्टी क्लास में जाना तब सीख्या था मन्नै गाना..
 पूजा पाठ मै करण लाग्ग्या शुरू कर दिया मंदिर जाना !

जब आठवीं में लिया दाखिला टॉप करण का सोच्या था जिला..
 म्हारे टाइम पै बोर्ड टूट्या मुरझा गया था जो फूल खिल्या !

आगे के कहानी जल्द ही लेकर आ रहा हूँ आपके लिए.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *